June 23, 2024

छ्त्तीसगढ़ : बैलाडीला की पहाड़ी में मिला विश्व का सबसे छोटी प्रजाति का हिरण, वजन केवल तीन किलोग्राम…

0

दंतेवाड़ा जिले की बैलाडीला पहाड़ी में विश्व के सबसे छोटी प्रजाति का हिरण मिला है। इस बात की पुष्टि तब हुई जब इसी प्रजाति का एक हिरण घायल अवस्था में शहरी क्षेत्र में पहुंच गया। बता दें की हिरण को उपचार के बाद वापस जंगल में छोड़ दिया गया है। बताया जा रहा है की इस प्रजाति के हिरणों का वजन केवल तीन किलोग्राम होता है।वहीं सर्प मित्र और पर्यावरण प्रेमी अमित मिश्रा ने बताया यह अत्यंत दुर्लभ प्रजाति का हिरण है। इसे इंडियन माउस डियर (इंडियन स्पॉटेड शेवरोटेन), जिसका वैज्ञानिक नाम मोसियोला इंडिका हैं। ये विश्व की सबसे छोटी हिरण की प्रजाति मानी जाती है। इसकी लंबाई 57.5 cm होती है। वजन सिर्फ 3 किलोग्राम के आसपास होता है। ये रात में निकलने वाला जीव है। बहुत मुश्किल से ही देखने को मिलता है। यहां तक की कैमरा ट्रैप में भी आज तक इसकी कम ही तस्वीरें कैद हो पाईं हैं। जंगल में भी इसे देख पाना आसान नहीं होता है। इसके बैलाडीला में होने की जानकारी अब तक नहीं थी।

_Advertisement_

Read More:-SRU : शैक्षणिक सत्र 2022-23 “उदघाटन समारोह” में शामिल होंगे PT.RSU और CSVTU के कुलपति…

जानकारी के मुताबिक, बचेली के सुभाष नगर में रात के समय जंगल से भटकते हुए यह हिरण आ गया। इसकी सूचना यहां के लोगों ने वन विभाग को दी। बचेली वन परिक्षेत्र अधिकारी आशुतोष मांडवा अपनी टीम डिप्टी रेंजर अघन श्याम भगत, बीट आफिसर राजेश कर्मा सहित वनकर्मी के साथ पहुंचे। हिरण को कार्यालय लेकर आए। वन परिक्षेत्र अधिकारी आशुतोष मांडवा नें बताया कि सूचना उच्च अधिकारियों को दी गई। अफसरों के परामर्श के मुताबिक रायपुर जंगल सफारी के पशु चिकित्सक से परामर्श लेकर बचेली के पशु चिकित्सक से इसकी जांच करवाई। हिरण थोड़ा घबराया हुआ और चोटिल था। इसलिए पशु चिकित्सक से उसका उपचार करवा के ठीक होने पर उसे घने जंगलों में आजाद कर दिया गया।

_Advertisement_

Read More:-राजधानी में अब 15 रुपये प्रति वर्गफीट के हिसाब से मिलेगी जमीन, 32 हजार परिवारों का अपना मकान…

 

_Advertisement_


 


 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *