June 23, 2024

SRU में “कोरोना वायरस महामारी: विज्ञान, और अब तक सीखे गए सबक” पर खास चर्चा…

0

रायपुर।। श्री रावतपुरा सरकार विश्वविद्यालय में लेक्चर सीरीज की आज चौथी कड़ी का आयोजन हुआ । आज की लेक्चर सीरीज “कोरोना वायरस महामारी: विज्ञान, और अब तक सीखे गए सबक” ‘Corona virus pandemic: Science, and lessons learnt so far’ थीम पर रखी गई थी । लेक्चर सीरीज की शुरआत माँ सरस्वती की वंदना और दीप प्रज्वलन के साथ हुई । कार्यक्रम में वक्ता के रूप में विश्वविद्यालय अनुदान आयोग के पूर्व अध्यक्ष और नैक के पूर्व कार्यकारी अध्यक्ष प्रो. वीरेंद्र सिंह चौहान रहे। इस लेक्चर में श्री रावतपुरा सरकार विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. एस. के. सिंह के साथ सभी सदस्य और छात्र-छात्राएं उपस्थित रहे। साथ ही इस अवसर पर किरोड़ीमल कॉलेज, यूनिवर्सिटी ऑफ़ दिल्ली से प्रो विभा सिंह भी उपस्थित रही।

_Advertisement_

_Advertisement_

 

_Advertisement_

Read More:-भीषण बारिश का असर सब्जियों पर, धनिया और पालक  200 रुपये प्रति किलो…

प्रो. वीरेंद्र सिंह चौहान ने “कोरोना वायरस महामारी: विज्ञान, और अब तक सीखे गए सबक” पर महत्वपूर्ण जानकारियां साझा की। जिसमें उन्होंने बताया की सभी वायरस में आनुवंशिक सामग्री (आरएनए या डीएनए) होती है। जिसमें आरएनए वायरस: सार्स, हेपेटाइटिस-सी, एचआईवी, फ्लू और डीएनए वायरस चेचक, हरपीज जैसे बीमारी होती हैं। उन्होंने बताया की आनुवांशिक सामग्री में वायरल प्रोटीन बनाने की सभी जानकारी होती है। वायरस स्वयं की प्रतिकृति नहीं बना सकते हैं, और उन्हें मेजबान सेल मशीनरी (पौधे, बैक्टीरिया, पशु, मनुष्य आदि) की आवश्यकता होती है और विभिन्न आकार और आकार-वायरस अपने संचरण, और मेजबान कोशिकाओं में प्रवेश के लिए कई अलग-अलग तरीकों का उपयोग करते हैं।

Read More:-SRI : नाइटेगंल हाँस्टल कुम्हारी में छात्रों ने हर्षोल्लास से मनाया जन्माष्टमी का त्यौहार…

उन्होंने बताया की जहां कोई डीएनए और आरएनए नहीं है, वहां कोई वायरस उत्पादन और प्रजनन नहीं कर सकता है। इसके साथ ही उन्होंने अब तक पुरे विश्व में होने वाले अलग-अलग संक्रमणो के आंकड़े बताए। और कोरोना वायरस के बारे में कहा कि सबसे पहले दिसंबर 2019 में चीन के वुहान शहर में पाया गया था। 11 जनवरी 2020 को जीनोम सीक्वेंस को सार्वजनिक किया गया। और RT/PCR दिनों में विकसित,रिसेप्टर की पहचान-एसीई-2, 11 मार्च 2020 को WHO द्वारा महामारी घोषित किया गया। और 11 मार्च 2020 को भारत में पहला मामला पाया गया। और बताया कि वैक्सीन के अलग-अलग वैक्सीन के प्रकार होते हैं और 20 से अधिक टीके उपयोग में हैं।


 

Read More:-एसआरयू में गंगा नदी की पारिस्थितिक अखंडता की बहाली: अवसर और चुनौतियों पर विमर्श…

पिछले दो साल से देश और दुनिया कोरोना महामारी से परेशान है. शारीरिक, मानसिक और आर्थिक रूप से लड़ रहा हैं। साल 2020 के इतिहास में कोरोना महामारी के लिए याद रखा जाएगा। ना केवल इस वायरस ने हजारों लोगों की जान ली, बल्कि जीवन की रफ्तार को ही धीमा कर दिया । इस सभी जानकारियों के साथ उन्होंने लेक्चर सीरीज को काफी उपयोगी बनाया । उन्होंने लेक्चर सीरीज में उपस्थित सदस्यों द्वारा किये गए सवालों के जवाब भी दिए। जिससे उन सदस्यों को उनकी जिज्ञासाओं के अनुसार जवाब प्राप्त हुआ। अंत में आज के वक्ता प्रो. वीरेंद्र सिंह चौहान को स्मृति चिन्ह देकर धन्यवाद ज्ञापित किया और राष्ट्रगान के साथ लेक्चर सीरीज का समापन किया गया ।


श्री रावतपुरा सरकार लोक ट्रस्ट के उपाध्यक्ष डॉ. जे. के. उपाध्याय, विश्वविद्यालय के प्रति-कुलाधिपति हर्ष गौतम, कुलपति एस. के. सिंह, कुलसचिव प्रभारी मनोज कुमार सिंह ने इस लेक्चर सीरीज के लिए सभी शैक्षणिक और अशैक्षणिक स्टाफ को शुभकामनाएं दी इसके साथ ही इस अवसर पर छात्रों के उज्जवल भविष्य की कामना की…

Read More:-जन्माष्टमी: रावतपुराधाम में दही हांडी प्रतियोगिता का आयोजन, छात्रों ने किया टीम बनाकर फोड़ी मटकी…

 


 


 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *