June 23, 2024

रिकॉर्ड: छोटी सी बच्ची ने कराया इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड में नाम दर्ज, ABCD,हिंदी वर्णमाला से लेकर महीनों के नाम मुजुबानी याद…

0

छत्तीसगढ़ में एक छोटी सी बच्ची ने किया सबको हैरान करने वाला काम, जिस उम्र में बच्चे ठीक से बोल भी नहीं पाते उस उम्र में प्रदेश की नन्ही बेटी ने कमाल कर दिया है। कोरबा की रहने वाली अनाया राठौर ABCD, महीनों के नाम, अ से अनार तक हिंदी वर्णमाला, दिन के नाम से लेकर बहुत कुछ सिर्फ डेढ़ साल की ही उम्र में जानने लगी है। वो ना सिर्फ इन सब को जानती समझती है, बल्कि बोल भी लेती है। यही कारण है कि इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड ने इस बच्ची को सम्मानित किया है और उसका नाम इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड में दर्ज किया गया है।

_Advertisement_

Read More:-NLC India Limited: स्पेशलिस्ट डॉक्टर के कई पदों पर नौकरी करने का मौका,पर्सनल इंटरव्यू के जरिए होगा चयन…

मूल रूप से कोरबा के मुक्ता हरदीबाजार इलाके के रहने वाले रुद्र सिंह राठौर इन दिनों में मुंबई में काम करते हैं। वो वहां पर SBI बैंक में चीफ मैनेजर हैं। रुद्र की पत्नी ममता राठौर हैं। ममता पेशे से टीचर हैं। दोनों की डेढ़ साल की बेटी अनाया है, जिसने कमाल कर रखा है। खास बात ये है अनाया बचपन से ही चीजों को जल्दी समझने और सीखने लगी थी, जिसका फायदा उसे अब मिल रहा है।

_Advertisement_

बताया गया है कि इतनी छोटी से उम्र में अनाया ABCD, महीनों के नाम, दिन के नाम, जानवरों के नाम बोल लेती है और समझ लेती है। इसके अलावा वह हिंदी वर्णमाला को भी समझ लेती है। अनाया की मां ममता ने बताया कि वह 25 तरह के जानवरों के साउंड्स भी निकाल लेती है। वहीं और भी कई चीजों के बारे में उसे पता है। मैथ्स के भी नंबर उसे याद हैंं। बच्चों के रैम्स रैन-रैन गो अवे, ट्विंकल-ट्विंकल लिटिल स्टार भी अनाया बोल लेती है। कई तरह की कविता भी उसे पता है, वह उसे बोलती भी है।

_Advertisement_


 

वहीं ममता ने जानकारी दी कि अनाया जब एक साल की हुई तब हमें पता चला कि वह काफी चीजों को जल्दी समझ लेती है। हम उसे पहले टीवी पर चलने वाले कार्टून, रैम्स वगैरह नहीं देखने देते थे। थोड़ा बहुत वह देखती थी उसी से उसे काफी कुछ पता चलने लगा था। इसके बाद हमें समझ आया और हमने खेल-खेल में उसे ये सब बताना शुरू किया, जिसे उसने काफी जल्दी सीख लिया है।

Read More:-IND vs WI ODI: टीम इंडिया वेस्टइंडीज के साथ 22 जुलाई को खेलेगी पहला वनडे, टीम इंडिया पहुंची वेस्टइंडीज…

अभी अनाया सीख रही टेबल-

ममता ने बताया हैं कि हम अनाया को फोर्स नहीं करते, वह खेलती रहती है तभी हम उसे इन सब जरूरी बातों को बताते हैं। उसी से उसने काफी कुछ सीखा है। इन दिनों अनाया टेबल सीख रही है। बॉर्डी पार्ट्स के बारे में भी उसे पता है। ममता ने बताया कि हमें जब ये लगा कि हमारी बच्ची काफी जल्दी सब चीजों को पिक कर रही है तो हमने इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड वालों से संपर्क किया था। इसके बाद उन्होंने अनाया का वीडियो देखा। फिर उसका नाम दर्ज किया गया है।

अनाया पिता ने दिया ये संदेश-

पिता रुद्र कहते हैं कि हर बच्चा बचपन से स्पेशल होता है। आवश्यकता है तो उसे पहचानने की। अनाया के केस में भी ऐसा हुआ था। उसने एक साल में ही सब जानना शुरू कर दिया था। हमे बाकी के बच्चों के लिए यही संदेश देंगे कि हर बच्चा बचपन से ही कुछ ना कुछ जानना और समझना चाहता है। जरूरत है तो उसे पॉलिस करने की। हमें ये तो अभी नहीं पता है कि अनाया बड़े होकर क्या बनेगी। पर हम चाहेंगे कि ये आगे जाकर देश का और प्रदेश का नाम रोशन करे।

Read More:-अखिल भारतीय अन्तर्विषविद्यालयिन वुडबॉल प्रतियोगिता SRU के छात्रों किया चौथा स्थान प्राप्त

 


 


 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *