June 23, 2024

इंडियन नेवी: आज लॉन्च होगा वॉरशिप ‘सूरत’ और ‘उदयगिरी’,कार्यक्रम में शामिल होंगे रक्षामंत्री राजनाथ…

0

देश की एक बड़ी सेना इंडियन नेवी की ताकत आज और बढ़ने वाली है। पूरी तरह से ‘मेड इन इंडिया’ कांसेप्ट पर निर्मित युद्धपोत सूरत (यार्ड 12707) और उदयगिरी (यार्ड 12652) का लोकार्पण मुंबई के मझगांव बंदरगाह पर होगा। बता दें इस कार्यक्रम में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह चीफ गेस्ट होंगे।

_Advertisement_

join whatsapp

_Advertisement_

 

_Advertisement_

Read More:-अब शहरों में भी दिखेंगे जंगल, रायपुर, दुर्ग, बिलासपुर समेत प्रदेश के सात शहरों में वन निर्माण का निर्णय…

नेवी की तरफ से बताया गया है कि इन वॉरशिप के लांच के दिन देश स्वदेशी युद्धपोत निर्माण के इतिहास में एक ऐतिहासिक घटना का गवाह बनेगा। दोनों ही युद्धपोत का डिजाइन नौसेना के नेवल डिजाइन निदेशालय ने तैयार किया है।

ये युद्धपोत प्रोजेक्ट 15बी श्रेणी के अगली पीढ़ी के स्टील्थ हैं, जिन्हें नौसेना के निर्देश पर मझगांव डॉक्स में बनाया गया है। आईएनएस सूरत प्रोजेक्ट 15बी का चौथा युद्धपोत और प्रोजेक्ट 15ए यानि कोलकता-क्लास डिस्ट्रॉयर युद्धपोत के मुकाबले एक बड़ा मेकओवर है। प्रोजेक्ट 15बी का पहला युद्धपोत आईएनएस विशाखापट्टनम पिछले साल यानी 2021 में भारतीय नौसेना में शामिल हो गया था। जबकि बाकी दो आईएनएस मारमुगाव और आईएनएस इम्फाल के ट्रायल चल रहे हैं।

Read More:-World Hypertension Day 2022: देंखे विश्व हाइपरटेंशन डे मानाने का कारण और सुधारे अपनी दिनचर्या…


 

Read More:-World Hypertension Day 2022: देंखे विश्व हाइपरटेंशन डे मानाने का कारण और सुधारे अपनी दिनचर्या…

इंडियन नेवी के अनुसार, सूरत का एक समृद्ध समुद्री जहाज निर्माण इतिहास है। 16वीं शताब्दी से लेकर 18वीं सदी तक सूरत को जहाज निर्माण में एक अग्रणीय शहर माना जाता था। यहां बने जहाज 100-100 साल तक समदंर में ऑपरेशनल रहते थे। यही कारण है कि इसका नाम गुजरात की फाइनेंशियल कैपिटल और मुंबई के बाद पश्चिमी भारत का दूसरा सबसे बड़ा कॉमर्शियल सेंटर ‘सूरत’ के नाम पर रखा गया है। सूरत को दो अलग-अलग जगहों पर ब्लॉक निर्माण पद्धति का उपयोग करके बनाया गया है।

युद्धपोत उदयगिरि का नाम आंध्र प्रदेश में एक पर्वत श्रृंखला के नाम पर दिया गया है। यह प्रोजेक्ट 17A का तीसरा फ्रिगेट है। ‘उदयगिरि’ घातक हथियारों, सेंसर, टेक्नोलॉजी और नए प्लेटफॉर्म मैनेजमेंट में सुधार कर बनाया गया है।

Read More:-एसआरयू : पीएचडी शोधार्थियों के कोर्स वर्क का शुभारंभ, भौतिक, रसायन और बायो टेक्नोलॉजी के छात्र शामिल…

इसके साथ ही भारतीय नौसेना के द्वारा बताया गया कि P17A के द्वारा कुल सात जहाज निर्माणाधीन हैं, जिसमें चार को मझगांव डॉक में व तीन कोलकाता को गार्डन रीच शिपबिल्डर्स एंड इंजीनियर्स में बनाया जा रहा है। आपको बता दें कि 15B और P17A के द्वारा दोनों युद्धपोत को देश में ही डिजाइन और निर्माण किया गया है। इसके साथ ही इसमें 75% उपकरण व सिस्टम स्वदेशी यूज किए गए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *