अब केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल की कमान संभालेगी पहली महिला चीफ नीना सिंह…

0

नीना सिंह राजस्थान कैडर के 1989 बैच की आईपीएस अधिकारी हैं। वह वर्तमान में सीआईएसएफ के विशेष महानिदेशक के रूप में कार्यरत हैं। उन्हें 31 जुलाई, 2024 को उनकी रिटायरमेंट तक के लिए तक इस पद पर नियुक्त किया गया है। और केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ) के पद पहुँचने वाली पहली महिला प्रमुख  भी हैं। साथ ही संगठन के विशेष महानिदेशक के रूप में कार्यरत सीआईएसएफ महानिदेशक की अतिरिक्त जिम्मेदारी दी गई है।

आईपीएस नीना सिंह

जीवनी

आईपीएस नीना सिंह बिहार की मूल निवासी हैं। उन्होंने पटना वीमेंस कॉलेज और जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय से पढ़ाई की है।उनके काम के लिए साल 2005 में उन्हें पुलिस पदक से सम्मानित किया गया था। नीना सिंह एक हाईली क्वालिफाइड महिला  हैं। उन्होंने अमेरिका की हावर्ड यूनिवर्सिटी लोक प्रशासन  में मास्टर डिग्री भी हासिल की है । नीना सिंह के पति रोहित कुमार सिंह भी राजस्थान कैडर के आईएएस ऑफिसर हैं। बिहार की रहने वाली नीना सिंह ने पटना वीमेंस कॉलेज और जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय से पढ़ाई की है। साल 2000 में, राज्य महिला आयोग के सदस्य सचिव के रूप में, उन्होंने एक आउटरीच कार्यक्रम तैयार किया था, जिसके तहत आयोग के सदस्य संकटग्रस्त महिलाओं की सुनवाई करने के लिए जिलों में जाएंगे।

करियर की शुरुवात

नीना सिंह के करियर की शुरुवात 2021 में सीआईएसएफ के साथ किया और 31 अगस्त, 2023 तक एडीजी, स्पेशल डीजी और प्रभारी डीजी के रूप में काम किया। प्रारंभिक पोस्टिंग 1992 में राजस्थान की राजधानी जयपुर में महिला पुलिस स्टेशन, एएसपी के रूप में हुई थी। इसके बाद, उन्होंने अजमेर और जयपुर में आईजी और सिरोही, जयपुर में एसपी के रूप में काम किया।यूपीएससी परीक्षा पूरी करने के बाद नीना सिंह को मणिपुर कैडर सौंपा गया। सरकार ने गुरुवार को अनीश दयाल सिंह को सीआरपीएफ के महानिदेशक, राहुल रसगोत्रा ​​को आईटीबीपी के महानिदेशक और सीआईएसएफ का नेतृत्व करने वाली पहली महिला नीना सिंह को तीन केंद्रीय अर्धसैनिक संगठनों के निदेशक के रूप में नामित किया।

पुरस्कार एवं उपलब्धियाँ

राजस्थान में, वह डीजी, नागरिक अधिकार और मानव तस्करी विरोधी और एडीजी (प्रशिक्षण) के पद पर रहीं। इसके अतिरिक्त, वह राजस्थान राज्य महिला आयोग की सदस्य थीं। नीना सिंह ने कोरोनोवायरस प्रकोप के दौरान राजस्थानी प्रमुख सचिव (स्वास्थ्य) का पद संभाला।अपने

जीवन में, नैना सिंह ने कई सम्मान जीते हैं, जो इस प्रकार से है :-

  • नीना सिंह राजस्थानी पुलिस अधिकारी हैं। उन्हें मिले कई अनूठे पुरस्कारों में राष्ट्रपति पुलिस पदक भी शामिल है। उनके पास छह साल का सीबीआई का अनुभव भी है ।
  • देश में सबसे चर्चित मामलों में से एक, जिया खान आत्महत्या, शीना बोरा हत्याकांड, बॉम्बे ब्लास्ट और अन्य अपराधों की जांच की।
    उनकी उपलब्धियों में यह भी है कि वह राजस्थान में सर्वोच्च पुलिस पद पर आसीन होने वाली पहली महिला थीं।
  • 2000 में राज्य महिला आयोग के सदस्य सचिव के रूप में, उन्होंने एक आउटरीच कार्यक्रम बनाया जहां आयोग के सदस्य कठिनाइयों का सामना करने वाली महिलाओं की सुनवाई करने के लिए जिलों का दौरा करेंगे।
  • उन्होंने पुलिस सुधार में सक्रिय भूमिका निभाई है। इसके अतिरिक्त, नीना सिंह को लेखन का विशेष शौक है। उन्होंने नोबेल पुरस्कार विजेता एस्थर डुफ्लो और अभिजीत बनर्जी के साथ दो जांचों में सहयोग किया।
  • 2005-2006 में, उन्होंने मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी की पहल में भी योगदान दिया, जिसका उद्देश्य पुलिस स्टेशनों की पहुंच क्षमता में सुधार करना था।
  • 2013 से 2018 तक सीबीआई के संयुक्त निदेशक के रूप में कार्य करते हुए उन्होंने शीना बोरा हत्या मामले और जिया खान आत्महत्या मामले जैसे हाई-प्रोफाइल मामलों का प्रबंधन किया।

आईपीएस अधिकारी नीना सिंह को सीआईएसएफ यानी केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल का प्रमुख बनाया गया है । बता दे कि नीना सिंह ने केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ) का प्रमुख बन कर इतिहास रच दिया है, क्योंकि यह कारनामा करने वालीं वह देश की पहली महिला हैं, जो सीआईएसएफ की पहली महिला प्रमुख बनी हैं । सीआईएसएफ के पास पूरे देश में हवाई अड्डों, दिल्ली मेट्रो, सरकारी भवनों और रणनीतिक प्रतिष्ठानों की सुरक्षा की जिम्मेदारी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *