June 23, 2024

नोबेल पुरस्कार 2022 :  बेलारूस के मानवाधिकार अधिवक्ता और 2 संगठन को नोबेल शांति पुरस्कार, भारतीय भी थे लिस्ट में शामिल…

0

विश्व के सबसे प्रतिष्ठित नोबेल शांति पुरस्कार का ऐलान हो चूका है। नॉर्वे की नोबेल कमेटी ने 2022 में शांति पुरस्कार के लिए बेलारूस के मानवाधिकार अधिवक्ता एलेस बालियात्स्की का नाम चुना है। इसके साथ ही रूसी मानवाधिकार संगठन मेमोरियल और यूक्रेनी मानवाधिकार संगठन सेंटर फॉर सिविल लिबर्टीज को यह पुरस्कार मिला है। बता दें की भारत से फैक्ट चेकर मोहम्मद जुबैर और प्रतीक सिन्हा इस दौड़ में शामिल थे। लेकिन दोनों में से किसी को भी नोबल पुरस्कार नहीं मिला है।

_Advertisement_

Read More :- हिंदी और स्थानीय भाषाओं में कराई जाए आईआईटी की पढ़ाई, राजभाषा संसदीय समिति ने की सिफारिश…


द नोबेल प्राइज की तरफ से कहा गया की नोबेल शांति पुरस्कार विजेता अपने देश में नागरिक समाज का प्रतिनिधित्व करते हैं। उन्होंने कई वर्षों तक नागरिकों के मौलिक अधिकारों की रक्षा करने और बढ़ावा देने के लिए सत्ता की आलोचना की है। उन्होंने युद्ध अपराधों, मानवाधिकारों के हनन और सत्ता के दुरुपयोग का दस्तावेजीकरण करने के लिए एक उत्कृष्ट प्रयास किया है। इसके साथ ही वे शांति और लोकतंत्र के लिए नागरिक समाज के महत्व को प्रदर्शित करते हैं।’

_Advertisement_

Read More :- SRU: 7वें लेक्चर सीरीज में “कम्युनिकेशन स्किल” पर हुई चर्चा, IGNOU प्रो वाइस चांसलर ने दी जानकरी…


गौरतलब हैं की भारत के प्रतीक सिन्हा और मोहम्मद जुबैर के अलावा विश्व स्वास्थ्य संगठन, म्यांमार की राष्ट्रीय एकता सरकार, बेलारूस की विपक्षी नेता सवितलाना भी इस पुरस्कार की दौड़ में शामिल थे। नोबेल शांति पुरस्कार की स्थापना 1895 में स्वीडन के केमिस्ट अल्फ्रेड नोबेल के नाम पर शुरू किया गया था। अल्फ्रेड नोबेल ने डयनामाइट की खोज की थी। नोबेल शांति पुरस्कार दुनिया का सबसे प्रतिष्ठित सम्मान माना जाता है। मानवता के लिए काम करने वालों को यह पुरस्कार दिया जाता है।

_Advertisement_


Read More :- SRI: B.P.Ed की छात्रा टॉक संजना घनश्याम का 36वें राष्ट्रीय खेल सॉफ्ट टेनिस प्रतियोगिता में चयन…


बता दें की साल 2022 के लिए नोबेल पुरस्कार का ऐलान सोमवार से शुरू हुआ। मंगलवार को भौतिकी के क्षेत्र में तीन वैज्ञानिकों को संयुक्त रूप से ये पुरस्कार दिया गया। उन्होंने इस बात की खोज की थी कि छोटे कण अलग होने पर भी एक दूसरे से संबंध बनाए रखते हैं। गुरुवार को स्वीडिश अकादमी ने इस साल साहित्य के नोबेल पुरस्कार फ्रांसीसी लेखिका “एनी एरनॉक्स” को दिया गया। 10 अक्टूबर को अर्थशास्त्र के लिए नोबेल पुरस्कार की घोषणा की जाएगी।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *