विश्व शूटिंग पैरालंपिक स्पोर्ट प्रतियोगिता में मोना अग्रवाल ने जीता स्वर्ण पदक…

0

नई दिल्ली। विश्व शूटिंग पैरा स्पोर्ट प्रतियोगिता 8 मार्च को शुरू हुआ । जिसमें 44 देशों की रिकॉर्ड तोड़ भागीदारी और 267 निशानेबाजों सहित कुल 449 प्रतिभागी शामिल हुए। डब्ल्यूएसपीएस विश्व कप में 81 सदस्यों के साथ भारतीय टीम सबसे बड़े दल के रूप में उभरी है। यह आयोजन भारत के लिए पैरा शूटिंग के क्षेत्र में अपनी बढ़ती ताकत दिखाने और खेल जगत में एक पावरहाउस के रूप में अपनी स्थिति की पुष्टि करने के लिए एक उल्लेखनीय मंच के रूप में कार्य करता है। संयुक्त अरब अमीरात, रूस और चीन भी मजबूत टीमें उतार रहा है, जिससे प्रतिस्पर्धा कड़ी होने वाली है। विशेष रूप से, रूस न्यूट्रल पार्टिसिपेटिंग एथलीट्स (एनपीए) के बैनर तले भाग लेगा।

पैरा-स्पोर्ट्स के लिए मील का पत्थर होगी साबित

रोमांचक एक्शन और भयंकर प्रतिद्वंद्विता के बीच, यह आगामी पैरालंपिक खेलों में अपना स्थान सुरक्षित करने का एक सुनहरा अवसर प्रस्तुत करता है। समिति अध्यक्ष और भारतीय पैरालंपिक समिति की निवर्तमान अध्यक्ष दीपा मलिक इसे भारत में पैरा-स्पोर्ट्स के विकास के लिए एक नया मील का पत्थर मानती हैं। इंडियन पैरा शूटिंग के चेयरपर्सन और निदेशक जय प्रकाश नौटियाल इसे भारत के लिए बड़े अंतरराष्ट्रीय आयोजनों के लिए अपनी तैयारी दिखाने का एक बड़ा अवसर मानते हैं।


मोना अग्रवाल ने जीता स्वर्ण पदक

भारत की मोना अग्रवाल ने डब्ल्यूएसपीएस पैरा निशानेबाजी विश्व कप में महिलाओं की 10 मीटर एयर राइफल एसएच  1 स्पर्धा में स्वर्ण पदक के साथ पेरिस पैरालम्पिक का कोटा हासिल कर लिया । मोना का यह चौथा अंतरराष्ट्रीय टूर्नामेंट था । वहीं 2020 तोक्यो पैरालम्पिक की स्वर्ण पदक विजेता अवनि लेखरा ने कांस्य पदक जीता । 37 साल की मोना ने दिसंबर 2021 से ही निशानेबाजी शुरू की थी । इससे पहले वह शॉटपुट और पावरलिफ्टिंग में प्रदेश स्तर पर खेल चुकी है। वह पेरिस पैरालम्पिक का कोटा हासिल करने वाली भारत की नौवीं पैरा निशानेबाज हैं । भारत में पहली बार पैरा विश्व कप हो रहा है जिसमें 46 देशों के 270 निशानेबाज भाग ले रहे हैं और इसमें पेरिस पैरालम्पिक के 20 कोटे दिये गये हैं ।

मोना ने फाइनल में चीन की झांग कुइपिंग को हराया

फाइनल पैरालम्पिक में मोना ने चीन की झांग कुइपिंग को हराकर 250 . 7 अंक के साथ पहला स्थान पाया । झांग ने 248 . 8 और अवनि ने 227 अंक बनाकर क्रमश: दूसरा और तीसरा स्थान हासिल किया । अवनि पेरिस का कोटा 2022 में ही हासिल कर चुकी है। जन्म के कुछ महीने बाद से ही पोलियो की शिकार मोना ने कहा ,‘‘ मुझे बहुत खुशी है कि अपनी चौथी ही स्पर्धा में देश के लिये कोटा हासिल कर सकी । अपने देश में विश्व कप का स्वर्ण पदक जीतना खास है ।’’

मोना अग्रवाल और आदित्य गिरी की जोड़ी ने पैरा निशानेबाजी विश्व कप में मिश्रित टीम एयर राइफल स्टैंडिंग (एसएच1) स्पर्धा में रविवार को रजत पदक जीता। भारत ने रविवार को दो रजत और दो कांस्य पदक जीते। तोक्यो पैरालंपिक के स्वर्ण पदक विजेता मनीष नरवाल और उनकी जोड़ीदार रुबीना फ्रांसिस मिश्रित टीम 10 मीटर एयर पिस्टल (एसएच1) स्वर्ण पदक मैच में चीन के ली मिन और यांग चाओ से 12-16 से हार गए।

भारत लगातार पैरा खेलों में ‘सुपरपावर’ बनने की ओर बढ़ रहा

स्टार पैरा निशानेबाज अवनि लेखरा और मनीष नरवाल शुक्रवार से देश में शुरू होने वाले पैरा निशानेबाजी विश्व कप में 31 सदस्यीय मजबूत भारतीय दल की अगुआई करेंगे। देश में पहली बार पैरा निशानेबाजी विश्व कप का आयोजन किया जा रहा है। लेखरा ने 2020 तोक्यो ओलंपिक में इतिहास रच दिया था जब वह पैरालंपिक खेलों मे पोडियम पर पहुंचने वाली देश की पहली महिला खिलाड़ी बनी थीं।

भारतीय पैरालंपिक समिति (पीसीआई) की निवर्तमान अध्यक्ष दीपा मलिक ने कहा, ‘‘दुनिया हमें विश्व स्तरीय पैरा खेलों के आयोजनों की मेजबानी करने की क्षमता वाले देश के रूप में देखती है। मैं अंतरराष्ट्रीय पैरालंपिक समिति और विश्व निशानेबाजी पैरा खेल को हम पर भरोसा दिखाने के लिए धन्यवाद देती हूं। ’’ पीसीआई महासचिव गुरशरण सिंह ने कहा, ‘‘इतने बड़े टूर्नामेंट की मेजबानी करना आसान नहीं होता। भारत लगातार पैरा खेलों में ‘सुपरपावर’ बनने की ओर बढ़ रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

इन्हें भी पढ़े