दुनिया के सबसे प्रदूषित शहर में भारत है तीसरे स्थान पर, डब्ल्यूएचओ ने जारी किया रिपोर्ट…

0

नई दिल्ली। बता दें कि स्विस संगठन की ओर से वर्ल्ड एयर क्वालिटी रिपोर्ट 2023 ने की रिपोर्ट जारी की है। जिसके अनुसार नई दिल्ली सबसे प्रदूषित हवा वाली राजधानियों में पहले नंबर पर है। इसी के साथ ही दिल्ली लगातार चौथी बार टॉप पर है। साथ ही 134 देशों की लिस्ट में भारत प्रदूषित हवा के मामले में तीसरे नंबर आ गयी हैं। जबकि 2022 में प्रदूषित हवा वाले देशों की सूची में भारत आठवें स्थान पर रहा था।

बेगूसराय बना दुनिया का सबसे प्रदूषित नगर

दुनिया भर के वायु गुणवत्ता निगरानी स्टेशनों और सेंसर के एक व्यापक नेटवर्क से डेटा लिया जाता है। जिसमे 134 देशों में 7,812 स्थानों को शामिल किया गया है। बिहार का बेगूसराय शहर दुनिया का सबसे प्रदूषित नगर की श्रेणी में सबसे पहले स्थान पर आ गया है। जबकि 2022 की लिस्ट में बेगूसराय का नाम भी नहीं था। 134 देशों की लिस्ट में बांग्लादेश दुनिया में सबसे खराब हवा वाला देश रहा। वहीं, इस सूची में पाकिस्तान भारत से एक कदम आगे यानी दूसरे नंबर पर है। इससे पहले जनवरी 2023 में आई सेंटर फॉर रिसर्च ऑन एनर्जी एंड क्लीन एयर’ (सीआरईए) की रिपोर्ट में दावा किया गया था कि मेघालय का बर्नीहाट सबसे प्रदूषित भारतीय शहर है। इसके बाद बिहार का बेगूसराय और यूपी का ग्रेटर नोएडा था।


प्रदूषण से होती है 70 लाख लोगों की मौत

विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक, दुनियाभर में हर साल तकरीबन 70 लाख लोगों मौते वायु प्रदूषण के कारण समय से पहले हो जा रही है। पीएम 2.5 को फाइन पार्टिकुलेट मैटर कहा जाता है। ये कण 2.5 माइक्रोन या छोटे आकार के होते हैं, वहीं देश के 66% शहरों में एनुअल PM 2.5 का स्तर 35 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर से ज्यादा रहा। और ये सांस लेने के दौरान निचले श्वसन तंत्र तक पहुंच जाते हैं। वायु प्रदूषण के कारण अस्थमा, कैंसर, आघात और फेफड़ों की बीमारी समेत अनेक बीमारियां हो जाती हैं। जो आगे चलकर मौत का कारण बन जाती है ।

भारत दुनिया का तीसरा सबसे प्रदूषित देश है

हमारे जीवन के हर हिस्से पर वायु की आवश्यकता होती है यदि वही वायु में प्रदूषित हो जाये तो स्वास्थ्य ओर बहुत बुरा प्रभाव पड़ता है और यह आम तौर पर, कुछ सबसे प्रदूषित देशों में, लोगों के जीवन के तीन से छह साल के बीच कहीं भी ख़त्म होने की संभावना है और फिर उससे पहले कई वर्षों तक पीड़ा झेलनी पड़ेगी, जिसे अगर बेहतर वायु गुणवत्ता हो तो पूरी तरह से रोका जा सकता है।

उत्तरी भारत के बिहार राज्य में पाँच लाख की आबादी वाला शहर, बेगुसराय, पिछले साल दुनिया का सबसे प्रदूषित शहर था, जहाँ औसत वार्षिक PM2.5 सांद्रता 118.9 थी, जो WHO के अनुसार 23 गुना अधिक है। IQAir रैंकिंग में इसके बाद भारतीय शहर गुवाहाटी, असम, दिल्ली, मुल्लांपुर और पंजाब। इसी के साथ भारत दुनिया का तीसरा सबसे प्रदूषित देश है, जहां 2023 में पीएम 2.5 का स्तर डब्ल्यूएचओ द्वारा तय मानकों से दस गुणा ज्यादा दर्ज किया गया ।

इसके अलावा, रिपोर्ट ने कोलंबस, ओहियो को सबसे प्रदूषित प्रमुख अमेरिकी शहर के रूप में पहचाना, जबकि बेलोइट, विस्कॉन्सिन, अमेरिका में सर्वोच्च स्थान पर है। पहली बार, कनाडा उत्तरी अमेरिका में सबसे प्रदूषित देश के रूप में उभरा, जिसकी सीमाओं के भीतर क्षेत्र के 13 सबसे प्रदूषित शहर थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

इन्हें भी पढ़े