June 23, 2024

कर्मचारी राज्य बीमा निगम देश के विभिन्न हिस्सों में 100 बेड वाले 23 नए अस्पतालों की करेगा स्थापना, केंद्रीय श्रम मंत्री लिया निर्णय…

0

_Advertisement_

 

_Advertisement_

Read More:-छत्तीसगढ़ :अंबेडकर अस्पताल में बढ़ेगी सुविधाएं, 300 से ज्यादा नर्सों की होगी भर्तियां, राज्य सरकार ने दी मिली मंजूरी…

अब देश के विभिन्न हिस्सों में कर्मचारी राज्य बीमा निगम (ईएसआई) 100 बेड की क्षमता वाले 23 नए अस्पतालों की स्थापना जल्द करने वाला हैं। बता दें की केंद्रीय श्रम मंत्री भूपेंद्र यादव की अध्यक्षता में हुई ईएसआई कॉरपोरेशन की रविवार को हुई बैठक में यह निर्णय लिया गया। बैठक में कई अन्य महत्वपूर्ण निर्णय भी लिए गए। योजना को इस साल के आखिर तक पूरे देश में लागू कर दिया जाएगा। अभी योजना 443 जिलों में पूरी तरह से तथा 153 जिलों में आंशिक रूप से क्रियान्वित है। जबकि 148 जिले ऐसे हैं जहां यह योजना नहीं चल रही है।

_Advertisement_

बता दें की बैठक में निर्णय हुआ कि इन इलाकों में आयुष्मान भारत योजना के द्वारा पैनल में शामिल अस्पतालों में ईएसआई सदस्यों को कैशलैस सुविधा प्रदान की जाएगी। बैठक में 100 विस्तरों की क्षमता वाले 23 नए अस्पतालों की स्थापना का भी निर्णय लिया गया। वहीं हेल्थ केयर लिंक वर्कर के लिए एक सार्टिफिकेट कोर्स भी शुरू किया जाएगा। यह दस विषयों में होगा। इस मौके पर यादव ने कहा कि पिछले आठ महीनों के दौरान ईएसआई ने 6400 रिक्तियों के लिए विज्ञापन निकाला है। इनमें डाक्टर तथा शिक्षण संकाय से जुड़ी 2000 रिक्तियां भी शामिल हैं।

Read More:-वैज्ञानिकों को मिला प्राचीन ‘बीयर डॉग’: अपने समय का बेहद भयावह, खतरनाक शिकारी और 320KG वजन…

देंखे किन-किन राज्यों खुलेंगे नए अस्पताल-

महाराष्ट्र में छह, हरियाणा में चार हिसार, सोनीपत, अंबाला तथा रोहतक में, तमिलनाडु में दो, उत्तर प्रदेश में दो मुरादाबाद एवं गोरखपुर में, कर्नाटक में दो, आंध्र प्रदेश, छत्तीसगढ़, गोआ, गुजरात, मध्य प्रदेश, ओडिशा तथा बंगाल में एक-एक अस्पताल खोले जाएंगे. जिन इलाकों में ईएसआई के अस्पताल नहीं हैं, वहां आयुष्मान भारत के तहत आने वाले निजी अस्पतालों में ईएसआई सदस्यों को कैशलैस स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान की जाएंगी। अभी 157 जिलों में ऐसी सेवाएं शुरू हो चुकी हैं जिनका विस्तार किया जाएगा।

Read More:-दुर्ग आरटीओ : जिले के प्राइवेट स्कूलों में संचालित बसों के रख रखाव की ठोस जांच …


 

Read More:-SRI : चित्रकूट प्राचार्य का शोध पत्र हुआ “मोर बुक इंटरनेशनल बुक मार्केट, में प्रकाशित…

 


 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *