July 13, 2024

एनवीडिया बनी एप्पल को पीछे छोड़ दुनिया की दूसरी सबसे मूल्यवान कंपनी…

0

नई दिल्ली। अमेरिका की सेमीकंडक्टर चिप बनाने वाली कंपनी एनवीडिया एप्पल को पीछे छोड़ते हुए दुनिया की दूसरी सबसे मूल्यवान कंपनी बन गई है। शेयर में आई तेजी से एनवीडिया का बाजार पूंजीकरण (मार्केट कैप) उछलकर 3.011 ट्रिलियन डॉलर (लगभग 251 लाख करोड़ रुपये) पर पहुंच गया है। वहीं, एप्पल का मार्केट कैप 3 ट्रिलियन डॉलर (लगभग 250 लाख करोड़) है।

माइक्रोसॉफ्ट है मार्केट कैप के साथ पहले नंबर पर

सेमीकंडक्टर चिप बनाने वाली कंपनी की एनवीडिया कॉर्प और दुनिया की सबसे वैल्युएबल कंपनी माइक्रोसॉफ्ट के बाजार पूंजीकरण में सिर्फ 3.15 ट्रिलियन डॉलर का अंतर है। दुनिया की सबसे मूल्यवान कंपनी माइक्रोसॉफ्ट 3.151 ट्रिलियन डॉलर मार्केट कैप के साथ पहले पायदान पर है, जबकि 3.011 ट्रिलियन डॉलर मार्केट कैप के साथ एनवीडिया कॉर्प दूसरे स्थान पर है। एप्पल 3.003 ट्रिलियन डॉलर मार्केट कैप के साथ तीसरे स्थान पर, अल्फाबेट (गूगल) 2.179 ट्रिलियन डॉलर मार्केट कैप के साथ चौथे पायदान पर है, जबकि पांचवें स्थान पर अमेजन है, जिसका मार्केट कैप 1.886 ट्रिलियन डॉलर है।


भारत में है 4 इंजीनियरिंग डेवलपमेंट सेंटर

एनवीडिया पहले से ही दुनिया की सबसे मूल्यवान सेमीकंडक्टर चिप बनाने वाली फर्म है। इसके भारत में 4 इंजीनियरिंग डेवलपमेंट सेंटर हैं। ये सेंटर हैदराबाद, पुणे, गुरुग्राम और बेंगलुरु में स्थित हैं। अमेरिकी चिप बनाने वाली कंपनी एनवीडिया कॉर्प का शेयर बुधवार को 60.03 डॉलर यानी 5.16 फीसदी की तेजी के साथ 1,224.40 डॉलर (लगभग 1,86,958 रुपये) पर बंद हुआ। एप्पल का शेयर 0.78 फीसदी की तेजी के साथ 195.87 डॉलर पर बंद हुआ है। पिछली बार एनवीडिया की वैल्यूएशन एप्पल से अधिक, साल 2002 में थी। उस समय, दोनों कंपनियों की कीमत 10 अरब डॉलर से कम थी।

एनवीडिया के सीईओ जेन्सेन हुआंग ने कहा कि कंपनी हर साल अपने तथाकथित एआई एक्सेलेरेटर को अपग्रेड करने की योजना बना रही है। स्टॉक में बढ़त से उनकी संपत्ति 5 अरब डॉलर से अधिक बढ़कर 107.4 अरब डॉलर हो गई। जेनेरिक AI का उदय एक नया इंडस्ट्रियल रिवोल्यूशन है और एनवीडिया को उम्मीद है कि टेक्नोलॉजी पर्सनल कंप्यूटरों में ट्रांसफर होने के साथ इसमें एक प्रमुख भूमिका निभाएगी। कंपनी यकीनन एआई खर्च में भारी बढ़ोतरी की सबसे बड़ी लाभार्थी रही है, जिससे कंपनी को दुनिया की सबसे मूल्यवान कंपनी के खिताब हासिल करने में मदद मिली।

मुख्य बातें:

ऐतिहासिक उपलब्धि: एनवीडिया ने बाजार पूंजीकरण में $3 ट्रिलियन से अधिक का आंकड़ा पार करते हुए एप्पल को पछाड़कर दुनिया की दूसरी सबसे मूल्यवान कंपनी बन गई है।

शानदार वृद्धि: एनवीडिया के शेयरों में इस साल 147% की उछाल आई है, जिससे CEO जेन्सेन हुआंग की संपत्ति में $5 बिलियन की वृद्धि हुई है।

AI में अग्रणी: एनवीडिया की सफलता कृत्रिम बुद्धिमत्ता (AI) चिप्स की बढ़ती मांग से प्रेरित है, जिसका उपयोग डेटा केंद्रों और गेमिंग पीसी दोनों में किया जाता है।

Microsoft को चुनौती: कुछ विश्लेषकों का मानना ​​है कि एनवीडिया जल्द ही Microsoft को पछाड़कर दुनिया की सबसे मूल्यवान कंपनी बन सकती है।

_Advertisement_
_Advertisement_
_Advertisement_

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

इन्हें भी पढ़े