July 13, 2024

NASA DART Mission: एस्टेरॉयड की दिशा और रफ्तार बदलने वाला नासा का कामयाब एक्सपेरिमेंट, इतिहास में दर्ज डार्ट मिशन…

0

पूरी धरती के लिए आज की सुबह ऐतिहासिक मानी जा रही है सुबह 4 बजकर 45 मिनट पर नासा ने एक बड़ा इतिहास रचा है. पृथ्‍वी को ऐस्‍टराइड से बचाने का स्पेस एजेंसी ने सफलतापूर्ण टेस्ट किया है. इसके तहत अपने डार्ट मिशन को अंजाम दिया. एस्टेरॉयड की दिशा और रफ्तार बदलने वाला नासा का एक्सपेरिमेंट कामयाब रहा. लेकिन बता दें की अभी फाइनल रिपोर्ट आनी बाकी है.

Read More:-श्री रावतपुरा सरकार ग्रुप ऑफ इंस्टिट्यूशन आरी में हुआ फार्मेसी दिवस कार्यक्रम, छात्र-छात्राओ ने जाना फार्मासिस्ट डे का महत्व…

नासा को यकीन है कि एस्टेरॉयड नाम के महाविनाश से महाटक्कर सफल रही. यानी नासा का मिशन डार्ट कामयाब हो गया है. फुटबॉल स्टेडियम के बराबर डिमॉरफोस से स्पेसक्राफ्ट के टकराते ही प्रोजेक्ट डार्ट से जुड़ी नासा की टीम खुशी के मारे उछल पड़ी. यह ऐसा पल था जब वैज्ञानिकों ने जश्न मनाया. साइंटिस्ट दिल थामकर अंतरिक्ष के इस ऐतिहासिक लम्हें का गवाह बन रहे थे, टक्कर होते ही वो तालियां पीटने लगे.


दरअसल, नासा प्रोजेक्ट डार्ट के जरिए ये देखना चाहता था कि क्या एस्टेरॉइड पर स्पेसक्राफ्ट की टक्कर का कोई इम्पैक्ट पड़ता है या नहीं ? क्या स्पेस क्राफ्ट की टक्कर से एस्टेरॉइड की दिशा और रफ्तार पर असर पड़ता है कि नहीं ? इन सवालों का विस्तार से जवाब डिटेल रिपोर्ट आने के बाद ही मिलेगा, लेकिन नासा के वैज्ञानिकों को यकीन है कि स्पेस क्राफ्ट की टक्कर से डिमॉरफोस पर असर जरूर पड़ा है. इम्पैक्ट सक्सेस का भी यही मतलब है, लेकिन इम्पैक्ट कितना पड़ा है इस पर बहुत जल्द नासा की रिपोर्ट सामने आ जाएगी.

Read More:-श्री रावतपुरा सरकार विश्वविद्यालय के छात्रों ने किया देवलीला बायोटेक का भ्रमण, अनुसंधान और विकास की ली जानकारी…

srigo


 


 

_Advertisement_
_Advertisement_
_Advertisement_

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

इन्हें भी पढ़े