May 20, 2024

वॉइस क्लोनिंग स्कैम के तेजी से बढ़ रहे मामले, कैसे बचे इस स्कैम से ?…

0

नई दिल्ली।  स्मार्टफोन का इस्तेमाल हमारी जिंदगी को जितना आसान बनाती है उसी के साथ कई सारे खतरे को भी बढ़ा रहा हैं। स्मार्टफोन में जब से इंटरनेट की पहुंच बढ़ी है तब से साइबर क्राइम, स्कैम, ऑनलाइन फ्रॉड के मामले भी तेजी से बढ़ते ही जा रहे हैं। टेक्नोलॉजी के तेजी से बदलते स्वरूप के बीच स्कैमर्स और हैकर्स भी ऑनलाइन फ्रॉड के लिए नए नए तरीके अपना रहे हैं। अब साइबर क्रिमिनल्स लोगों को ठगी का शिकार बनाने के लिए वॉइस क्लोनिंग स्कैम का इस्तेमाल कर रहा है।

_Advertisement_

_Advertisement_

बता दें कि इस समय टेक्नोलॉजी की दुनिया में वॉइस क्लोनिंग स्कैम का नाम चर्चा में है। पिछले कुछ महीनों में वोइस क्लोनिंग स्कैम के जरिए होने वाले फ्रॉड के कई मामले सामने आ चुके हैं। इसलिए स्मार्टफोन का इस्तेमाल करते हैं तो आपको काफी सतर्क रहने की जररूत है क्योंकि इस समय वॉइस क्लोनिंग ऐप काफी तेजी से बढ़ रहा है। अगर आपके पास कोई कॉल आए और उसमें आपका बेटा या फिर बेटी रोते हुए खुद को बचाने की रिक्वेस्ट करने लगे तो आपको कैसा लगेगा। बच्चे के रोने के बाद आपको कोई पैसे ट्रांसफर करने को कहेगा तो आप बिना सोचे समझे बच्चे को बचाने के लिए स्कैमर्स को रुपये ट्रांसफर कर देंगे। वाइस क्लोनिंग से साइबर क्रिमिनल्स कुछ इसी तरह स्कैम कर रहे हैं।

_Advertisement_

वॉइस क्लोनिंग की पहचान कैसे करें ?

टेक्नोलॉजी के हर एक क्षेत्र में इस समय आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का इस्तेमाल बढ़ने लगा है। क्योंकि एआई की पहुंच बढ़ने से हमारे कई सारे कठिन काम को आसान तो बना दिया हैं लेकिन इससे अब नए तरह के खतरे भी सामने आने लगे हैं। जिसमे से वॉइस क्लोनिंग स्कैम भी ऐसा ही एक खतरा है। इसमें स्कैमर्स आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस की मदद से पहले किसी की आवाज को कॉपी करते हैं और फिर वॉइस का क्लोन जनरेट करके लोगों को धमकाते हैं। आजकल स्कैमर्स का यह एक नया हथियार बन चुका है इस नुकसान से बचने के लिए बेहद सतर्क रहने की जरूरत है।

साथ ही फोन कॉल पर आने वाली आवाज को ध्यान से सुने। ऐसा इसलिए क्योंकि एआई कितना भी डेवलप हो जाए लेकिन वह हू बहू इंसानों की तरह आवाज नहीं निकाल सकता। अगर आप ध्यान से सुनेंगे तो नकली आवाज को आसानी से ट्रैक कर सकते हैं।

कभी भी ऑडियो क्लिक को ऑनलाइन अपलोड न करे

वॉइस क्लोनिंग ऐप को लेकर कई बार यह सवाल मन में आता है कि हमारी आवाज का क्लोन कैसे तैयार हो सकता है तो बता दें कई बार लोग अपनी ऑडियो क्लिप को कई सारे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म और दूसरे ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर अपलोड करते हैं जहां से स्कैमर्स वॉइस को कॉपी कर लेते हैं। इसलिए आपको किसी भी ऑनलाइन प्लेटफॉर्म में अपनी आवाज अपलोड करने से बचना चाहिए।

वॉइस क्लोनिंग के जरिये कैसे करते है स्कैम ?

  • वॉइस क्लोनिंग के लिए स्कैमर्स सबसे पहले अननोन नंबर से कॉल करते हैं।
  • कॉल करने के बाद स्कैमर्स आपकी वॉइस को रिकॉर्ड करते हैं।
  • करीब 5 सेकंड तक वाइस रिकॉर्ड होने के बाद फोन कॉल कट कर दी जाती है।
  • 5 सेकंड की आवाज के जरिए वॉइस क्लोनिंग की जाती है।
  • बाद में इसी वॉइस क्लोनिंग से आपके रिलेटिव्स को फोन करके धमकाते हैं।

पिछले छह महीने में भारत में जितने स्कैम हुए हैं उनमें 83 फीसदी वॉइस क्लोन वाले ही हैं। वॉयस क्लोन स्कैम में लोगों ने करोड़ों रुपये गंवाए हैं।

इमरजेंसी: एआई के जरिए वॉइस को क्लोन करके ये ठग इमरजेंसी के बहाने के साथ कॉल करते हैं। ये आपके किसी जानने वाले की ही आवाज में कहते हैं कि आपका कोई करीबी मुसीबत में है या अस्पताल में है। ऐसे में पैसे की तुरंत जरूरत है।

बात करने का अंदाज: एआई से किसी की आवाज की कॉपी तो की जा सकती है लेकिन उसके बात करने का तरीका और अंदाज को कॉपी नहीं किया जा सकता। इस तरह के कॉल को ध्यान से सुनें और तय करें कि रोबोटिक कॉल है या फिर किसी इंसान ने किया है।

पैसे की मांग: यदि कोई फोन कॉल करके आपसे पैसे मांगता है तो सतर्क हो जाएं। इसके अलावा यदि आपसे कोई बैंक अकाउंट की जानकारी भी मांगता हो तो ना दें, भले ही उसकी आवाज आपके किसी जानने वाले से मेल खाती हो।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *