87 फीसदी वोट के साथ लगातार पांचवी बार फिर राष्ट्रपति बने व्लादिमीर पुतिन….

0

रूस ।  तीन दिनों की मतदान की प्रक्रिया पूरी होने के बाद  रूस में हुई मतगणना में कुल 87.97 मतों के साथ व्लादिमीर पुतिन लगातार पांचवी बार राष्ट्रपति बने हैं और वह 2030 तक रूस के राष्ट्रपति बने रहेंगे। जिसमे कुल 11.42 करोड़ मतदाताओं में से 72.84 प्रतिशत लोगों ने तीन दिनों में मतदान किया। पुतिन राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री के रूप में रूस की सत्ता में 1999 से ही बने हुए हैं।

राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन

1999 से क्यों है सत्ता में ?

बता दें कि खराब स्वास्थ्य के चलते बोरिस येल्तसिन ने उन्हें जब सत्ता की बागडोर सौंपी थी तब से रूस अपने अस्तित्व के लिए कई तरह की चुनौतियों का सामना कर रहा था। तब से पुतिन के हाथों में रूस की बागडोर सौंपी गयी । इस प्रकार वह जोसेफ स्टालिन को भी पीछे छोड़ते हुए रूस के 200 वर्षों के इतिहास में सबसे ज्यादा समय तक सत्ता में रहने वाले नेता बनने की राह पर हैं। रूस में 2024 का चुनाव तब हो रहा है जब यूक्रेन युद्ध का तीसरा वर्ष शुरू हो चुका है। इस चुनाव से पूर्व पुतिन रूस की जनता को अस्तित्व का खतरा बताते रहे हैं और उन्होंने कहा कि उनके सामने यूक्रेन पर हमला करने के अलावा अन्य कोई विकल्प नहीं था।

कौन है व्लादिमीर पुतिन?

राष्ट्रपति पुतिन एक पूर्व रुसी ख़ुफ़िया अधिकारी, घरेलू सुरक्षा एजेंसी व राजनीतिज्ञ है जिन्होंने 1999 से 2008 और 2012 से वर्तमान तक रूस के राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री के रूप में कार्य किया 1990 में वह लेफ्टिनेंट कर्नल के पद से सक्रिय केजीबी सेवा से सेवानिवृत्त हुए। 1999 में जब व्लादिमीर पुतिन को राष्ट्रपति नामित किया गया, तो रूस के संविधान ने राष्ट्रपति को लगातार दो कार्यकाल तक सीमित कर दिया। जब  2008 में उनका दूसरा कार्यकाल समाप्त होने के बाद, उन्होंने 2012 में फिर से राष्ट्रपति बनने से पहले प्रधान मंत्री के रूप में कार्य किया।


साथ ही जनवरी 2020 में पुतिन ने एक संवैधानिक संशोधन का मसौदा तैयार किया जो उन्हें दो और कार्यकालों के लिए राष्ट्रपति बने रहने की अनुमति देगा। इसे संशोधनों के एक पैकेज में शामिल किया गया था जिसे रूसी विधायिका द्वारा और जुलाई 2020 में एक राष्ट्रीय जनमत संग्रह में रूसी मतदाताओं द्वारा अनुमोदित किया गया था।

व्लादिमीर पुतिन ने अपने शासन को मजबूत किया है

पुतिन के शासनकाल के दो दशकों में, उन्होंने अपने शासन को मजबूत किया है और रूसी लोगों के सामने एक वैश्विक शक्ति के रूप में रूस की छवि पेश की है। उन्होंने रूस को एक नवजात लोकतांत्रिक राज्य से एक निरंकुश राज्य में बदल दिया, मध्य पूर्व में रूस के प्रभाव का विस्तार किया, चीन के साथ रूसी संबंधों को मजबूत किया, और अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए बल का उपयोग करने की इच्छा प्रदर्शित की, जैसा कि 2014 में क्रीमिया और उसके बड़े पैमाने पर कब्जे में किया गया था। -2022 में यूक्रेन पर बड़े पैमाने पर आक्रमण ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

इन्हें भी पढ़े