July 24, 2024

अबू धाबी के हिंदू मंदिर की क्या है विशेषताएं, उद्घाटन की तैयारियां जोरो पर…

0

दुबई : अबू धाबी शेख जायद राजमार्ग पर अल रहबा के पास अबू मुरीखा में स्थित बीएपीएस हिंदू मंदिर अबू धाबी में लगभग 27 एकड़ भूमि पर बनाया गया है और इसे 2019 से बनाया जा रहा है। मंदिर के लिए संयुक्त अरब अमीरात सरकार द्वारा दान दिया गया था। प्रधानमंत्री मोदी मंगलवार से संयुक्त अरब अमीरात की दो दिवसीय यात्रा करेंगे और 14 फरवरी को भव्य मंदिर का उद्घाटन करेंगे। साथ ही मेहमानों के लिए उपहार बना रहे बच्चे पत्थर पर आकृति उकेरी है । पहले पत्थर वाले हिंदू मंदिर के उद्घाटन की तैयारियां लगभग पूरी हो चुकी है।

मंदिर का निर्माण

मंदिर परियोजना के निर्माण, विकास और प्रशासन के लिए दोनों सरकारों द्वारा बीएपीएस स्वामीनारायण संस्था और मंदिर लिमिटेड को चुना गया और सौंपा गया। अबू मुरीखा में स्थित बीएपीएस हिंदू मंदिर, अबू धाबी में लगभग 27 एकड़ भूमि पर बनाया गया है और इसे 2019 से बनाया जा रहा है। मंदिर के लिए संयुक्त अरब अमीरात सरकार द्वारा दान दिया गया था। संयुक्त अरब अमीरात में तीन अन्य हिंदू मंदिर हैं, जो दुबई में स्थित हैं।


परिसर में एक आगंतुक केंद्र, प्रार्थना कक्ष, प्रदर्शनियां, सीखने के क्षेत्र, बच्चों और युवाओं के लिए खेल क्षेत्र, विषयगत उद्यान, पानी की सुविधाएं, एक फूड कोर्ट, पुस्तक और उपहार की दुकान और अन्य सुविधाएं शामिल हैं। बीएपीएस ने कहा, सौहार्दपूर्ण स्थान के रूप में, यह हिंदू संस्कृति और आध्यात्मिकता को अनुभव करने और समझने के लिए सभी धर्मों के लोगों का स्वागत करेगा।

पीएम मोदी करेंगे उद्घाटन

प्रधानमंत्री मोदी मंगलवार से संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) की दो दिवसीय यात्रा करेंगे, इस दौरान बोचासनवासी अक्षर पुरुषोत्तम स्वामीनारायण संस्था (बीएपीएस) हिंदू मंदिर का उद्घाटन  14 फरवरी को करेंगे। पीएम अबू धाबी के जायद स्पोर्ट्स सिटी में भारतीय समुदाय को संबोधित करेंगे। संयुक्त अरब अमीरात में कम से कम 35 लाख भारतीय हैं, जो खाड़ी में भारतीय कार्यबल का हिस्सा हैं। जो संयुक्त अरब अमीरात में पहला पारंपरिक हिंदू पत्थर मंदिर है। और यह 1 मार्च से जनता के लिए खुलेगा।

मेहमानों के लिए मासूम बना रहे उपहार

बच्चे तीन महीने से हर रविवार को मंदिर स्थल पर “पत्थर सेवा” कर रहे हैं और अब “छोटे खजाने” कहे जाने वाले उपहारों को अंतिम रूप देने में लग गए हैं। 12 वर्षीय तिथि पटेल के लिए, पत्थर सेवा एक वीकेंड एक्टिविटी है, जिसमें उन्हें काफी मजा आता है। यहां 100 से अधिक भारतीय स्कूली बच्चे पत्थरों को चित्रित करने में लगे हुए हैं। दरअसल, यह ‘Tiny Treasures’ मंदिर उद्घाटन में शामिल होने वाले सभी मेहमानों को उपहार के तौर पर दिया जाएगा। मंदिर स्थल पर बचे हुए पत्थर और छोटी चट्टानें इकट्ठा करके सफाई करके पॉलिश किया गया, उसके बाद प्राइमर की एक परत लगाई और फिर पेंट किया। प्रत्येक चट्टान पर एक तरफ एक प्रेरक उद्धरण है और दूसरी तरफ मंदिर के किसी हिस्से को चित्रित किया गया है।”

उपहार का नाम “छोटा खजाना” रखा है क्योंकि बच्चे उन्हें अपने छोटे हाथों से इसे बना रहे हैं। उन्होंने कहा, “यह पत्थर मेहमानों को भव्य मंदिर की उनकी पहली यात्रा की याद दिलाएगा। मेरे लिए, यह टीम वर्क, दोस्तों के साथ वीकेंड सैर और एक रचनात्मक गतिविधि का अनुभव रहा है। मैं यहां अपने माता-पिता के साथ आती हूं और वे मंदिर के कुछ हिस्सों में अपनी सेवा भी देते हैं।”

शुरुआती महीनों केआगंतुकों को भी मिलेगा उपहार

बता दे कि पत्थरों पर चित्रित किए जा रहे डिजाइन पुष्टि के प्रतिबिंब हैं और शांति, प्रेम और सद्भाव का प्रतिनिधित्व करते हैं। उन्हें बाद में वार्निश किया जाता है, ताकि वे मंदिर के रूप में कई वर्षों तक टिक सकें। इस गतिविधि को कुछ महीनों तक जारी रखेंगे, ताकि जब मंदिर जनता के लिए खोला जाए, तो शुरुआती महीनों में आगंतुकों को भी यह उपहार मिल सके।

_Advertisement_
_Advertisement_
_Advertisement_

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *