श्री रावतपुरा सरकार यूनिवर्सिटी के योग विभाग के विद्यार्थीयों ने किया आचार्यों के साथ शैक्षणिक भ्रमण…

0

रायपुर।। श्री रावतपुरा सरकार यूनिवर्सिटी के कला संकाय अंतर्गत योग विभाग के 36 विद्यार्थी आचार्यों के साथ शैक्षणिक भ्रमण हेतु 17 मार्च को रवाना हुए थे। जिसका उद्देश्य विद्यार्थियों को यौगिक वातावरण से जोड़कर योग के मूलभूत तथ्यों से व्यवहारिक अनुभव कराना था। इस शैक्षणिक भ्रमण में विद्यार्थियों ने उत्तरप्रदेश व उत्तराखंड के विभिन्न योग संस्थानों (तपोभूमि मथुरा, देवसंस्कृति विश्वविद्यालय, ऋषिकेश, हरिद्वार) का भ्रमण किया साथ ही संचालित योग संस्थाओं में प्राकृतिक चिकित्सा एवं योग के सैद्धांतिक व प्रायोगिक कक्षाओं में भाग भी लिया।

 


Read More:-सही आहार के मायने बताकर मनाया गया मदर टेरेसा कालेज ऑफ नर्सिंग में पोषण दिवस…..

प्रथम दिवस में टीम ने मथुरा के तपोभूमि युग निर्माण योजना ट्रस्ट के विभिन्न यौगिक आध्यात्मिक क्रियाकलापों में भाग लिया, युग निर्माण योजना प्रेस का अवलोकन किया तथा भक्तियोग मार्गी संस्थानों का भ्रमण किया। द्वितीय दिवस में विद्यार्थियों ने शांतिकुंज हरिद्वार के यौगिक आध्यात्मिक साधनाओं में भाग लिया और ऋषिकेश के विभिन्न योग संस्थाओं एवं गीता प्रेस का अवलोकन किया साथ ही नीलकंठ महादेव का दर्शन भी किया।

तृतीय दिवस में देव संस्कृति विश्वविद्यालय हरिद्वार में विद्यार्थियों को संकायाध्यक्ष योग के पितामह कहे जाने वाले प्रो. ईश्वर भारद्वाज, विभागाध्यक्ष प्रो सुरेश बर्नवाल एवं कुलसाचिव श्री बलदाऊ देवांगन का सान्निध्य मिला और उनके मार्गदर्शन एवं संबोधन से सभी लाभान्वित हुए। तत्पश्चात सह आचार्य श्री कामता प्रसाद द्वारा हठयोग की कक्षा ली गई जिसके पश्चात् विद्यार्थियों ने अपने प्रश्नों का उत्तर भी प्राप्त किया। तत्पश्चात् देव संस्कृति विश्वविद्यालय के संचालित पॉली क्लीनिक वैकल्पिक चिकित्सा केंद्रों का अवलोकन किया एवं सह आचार्य डॉ अमृत लाल गुरवेंद्र से विशेष मार्गदर्शन प्राप्त किया। साथ ही उत्तराखंड संस्कृत विश्वविद्यालय हरिद्वार के योग विभाग विभागाध्यक्ष डॉ. कामाख्या कुमार के द्वारा विशेष सत्र लिया गया, उनके सान्निध्य एवं मार्गदर्शन से सभी विद्यार्थी लाभान्वित हुए।


Read More:-अनंत विभूषित श्री रवि शंकर महाराज जी ने भक्तो के साथ माँ राजराजेश्वरी ‘ललिताम्बिका’ का विभिन्न सामग्रियों से किया एक लाख अर्चन…..

चतुर्थ दिवस में विद्यार्थियों ने देव संस्कृति विश्वविद्यालय परिसर के प्राकृतिक चिकित्सा केंद्र एवं एक्यूप्रेशर पार्क का अवलोकन किया एवं स्वास्थ्य वर्धक आहारों का लाभ उठाया। देव संस्कृति विश्वविद्यालय के प्रति कुलपति डॉ चिन्मय पंड्या जी का सान्निध्य विद्यार्थियों के लिए अविस्मरणीय क्षण रहा जिसमें डॉ चिन्मय पंड्या जी के द्वारा लिए गए विशेष सत्र का लाभ विद्यार्थियों ने लाभ उठाया एवं अपने प्रश्नों का उचित उत्तर भी प्राप्त किया। तत्पश्चात् ऐतिहासिक स्थल दक्ष प्रजापति मंदिर एवं माता सती के जन्मस्थल का अवलोकन किया साथ ही मंशा देवी मंदिर एवं श्री गंगा आरती का दर्शन लाभ भी प्राप्त किया। पंचम दिवस में विद्यार्थियों की देव संस्कृति विश्वविद्यालय के कुलाधिपति डॉ प्रणव पंड्या और अखिल विश्व गायत्री परिवार की प्रमुख शैलबाला पंड्या जी से विशेष मुलाकात हुई और मार्गदर्शन प्राप्त किया। विद्यार्थियों ने ब्रह्मवर्चस शोध संस्थान में होने वाले यौगिक आध्यात्मिक प्रयोगों एवं अनुसंधानों को समझा, यह सत्र विद्यार्थियों के लिए बहुत ही रोचक रहा। तत्पश्चात विद्यार्थियों ने भारत माता मंदिर का अवलोकन कर भारतीय सभ्यता एवं संस्कृति से परिचित हुए। अंतिम सत्र में देव संस्कृति विश्वविद्यालय में आयोजित भगवत गीता की कक्षा में शामिल हुए एवं विशेष सत्र का लाभ उठाया। प्रतिदिन विद्यार्थियों ने नादयोग साधना में भी भाग लिया।


यह टीम योग विभाग के सहायक आचार्य डॉ राधिका चंद्राकर और आशीष धर दीवान के नेतृत्व में रवाना हुई थी। इस शैक्षणिक भ्रमण हेतु विभागाध्यक्ष डॉ. केवल राम चक्रधारी ने विद्यार्थियों को शुभकामनाएं देते हुए उज्जवल भविष्य की कामना की और कहा कि प्रति वर्ष योग के विद्यार्थियों को इसी प्रकार विभिन्न योग संस्थाओं को देखने समझने का अवसर मिलता रहेगा जिससे उनके व्यवहारिक ज्ञान में अभिवृद्धि होगी। विश्वविद्यालय के प्रतिकुलाधिपति श्री हर्ष गौतम, कुलपति डॉ. एस.के.सिंह एवं कुलसचिव सी रमेश कुमार द्वारा सफल शैक्षणिक भ्रमण के लिए शुभकामनाएं प्रेषित की गईं।

Read More:-श्री रावतपुरा सरकार विश्वविद्यालय में वर्नर-ग्रेन इंस्टीट्यूट, स्टॉकहोम, स्वीडन के अनुसंधान वैज्ञानिक ने दिया छात्रों को व्याख्यान…

 


 


 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *